बुधवार, नवम्बर 29, 2023

लोकसभा चुनाव: सोमवार से शुरू होगा एफएलसी

आसन्न लोकसभा चुनाव के लिए सोमवार से इवीएम का एफएलएसी कार्य प्रारम्भ किया जाएगा. उक्त जानकारी उपनिर्वापचन पदाधिकारी जावेद एकबाल ने राजनैतिक दलों के प्रतिनिधियों के साथ आयोजित बैठक में दीं. उन्होंने सभी उपस्थित राष्ट्रीय और राज्य स्तरीय दलों के प्रतिनिधि से इस दौरान उपस्थित रह कर कार्य का अवलोकन करने का आग्रह किया. उन्होंने बताया कि यह कार्य सदर प्रखंड के निकट अवस्थित इवीएम वेयरहाउस के एफएलसी हॉल में प्रातः नौ से संध्या सात बजे तक आगामी एक नवंबर तक प्रत्येक दिन कार्य की समाप्ति तक चलेगा.

- Advertisement -spot_img
- Advertisement -

तैयारी पूरी, राजनैतिक दलों को दी गयी जानकारी

छपरा। आसन्न लोकसभा चुनाव के लिए सोमवार से इवीएम का एफएलएसी कार्य प्रारम्भ किया जाएगा. उक्त जानकारी उपनिर्वाचन पदाधिकारी जावेद एकबाल ने राजनैतिक दलों के प्रतिनिधियों के साथ आयोजित बैठक में दीं. उन्होंने सभी उपस्थित राष्ट्रीय और राज्य स्तरीय दलों के प्रतिनिधि से इस दौरान उपस्थित रह कर कार्य का अवलोकन करने का आग्रह किया. उन्होंने बताया कि यह कार्य सदर प्रखंड के निकट अवस्थित इवीएम वेयरहाउस के एफएलसी हॉल में प्रातः नौ से संध्या सात बजे तक आगामी एक नवंबर तक प्रत्येक दिन कार्य की समाप्ति तक चलेगा.

एसओपी का होगा सख्ती से अनुपालन

श्री एकबाल ने बताया कि एफएलएसी में चुनाव आयोग के एसओपी का सख्ती से अनुपालन किया जाएगा. कोई भी अनाधिकृत व्यक्ती हॉल में प्रवेश नहीं कर सकता है. दलों के प्रतिनिधियों को भी अध्यक्ष या सचिव का प्राधिकृत पत्र उपस्थापित करना होगा. हॉल में मोबाईल या किसी प्रकार का इलेक्ट्रिक गजेट ले जाना सख्त वर्जित रहेगा. राजनीतिक दलों के प्रतिनिधि लॉगबुक समेत विभिन्न प्रकार के पंजीयों पर अपना हस्ताक्षर दर्ज करेंगे. साथ ही यदि वे चाहें तो सीयू पर लगने वाले पिंक पेपर सील पर भी अपना साइन कर सकते हैं.

सीधे चुनाव आयोग करेगा निगरानी

एफएलसी की प्रक्रिया के निगरानी के लिए तीन सतह की व्यवस्था रहेगी. हाईटेक आईपी कैमरे से वेब टेलीकास्ट किया जाएगा. जिसे डीएम समेत राज्य व भारत निर्वाचन आयोग माॅनिटर करेंगे. वहीं दूसरे सतह पर वेयरहाउस का अपना सीसीटीवी कैमरा चप्पे-चप्पे की रिकार्डिंग करेगा. इसके साथ ही वीडियोग्राफी के माध्यम से भी सभी कार्यवाहियों को रिकार्ड किया जाएगा.

त्रिस्तरीय सुरक्षा के साथ पारदर्शिता का खास इन्तेजाम
मौके पर मौजूद एफएलसी कोषांग के प्रभारी पदाधिकारी सह डीएमडब्लूओ रजनीश कुमार राय ने बताया कि यह कार्य कड़ी सुरक्षा वयवस्था में संपन्न कराया जाएगा. वेयरहाउस के अपने स्टैटिक सुरक्षा कर्मी के साथ ही जिला निर्वाचन पदाधिकारी द्बारा अलग से मजिस्ट्रेट और चार एक का फोर्स प्रतिनियुक्त किया गया है. किसी को मेटल डिटेक्टर डोर से गुजर कर ही प्रवेश करना होगा.

इसीआईएल ने भेजे हैं अपने 15 अभियंता

एफएलसी की पूरी प्रक्रिया को अधिकारी द्वय ने समझाते हुए कहा कि यह मशीनों की प्रथम स्तरीय जांच है. जिसे इसीआईएल के अभियंता पूरी पारदर्शिता के साथ संपन्न करेंगे. इसके लिए पहले सभी मशीनों की प्री एफएलसी जांच होगी. तब विविपैट में डमी सिम्बाॅल की लोडिंग होगी. तत्पश्चात प्रत्येक बीयू, सीयू और विविपैट को कनेक्ट कर प्रत्येक 16 बटन पर छह-छह वोट डाले जाएंगे. अंत में डाले गए कुल वोटों के रिजल्ट से विविपैट के पर्ची की गिनती कर मिलान किया जाएगा. टेस्ट में पारित और रद्द मशीनों को आयोग के विशेष ऐप ईएमएस-0.2 पर स्कैन के माध्यम से अपलोड किया जाएगा. इस दौरान सीयू पर लगने वाले पिंक पेपर सील का भी विशेष नंबर अपलोड किया जाएगा.

- Advertisement -

Latest news

- Advertisement -

Related news

- Advertisement -